salt

हम आप में से कई लोगों की आदत सब्जी या फिर किसी भी चीज में ऊपर से नमक डालकर खाने की होती है. क्या ऐसा करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा है? खाने में नमक की मात्रा को लेकर पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया ने चौंकाने वाली रिपोर्ट जारी की है.
पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया (पीएचएफआई) द्वारा कराए गए अध्ययन में पाया गया है कि वयस्क भारतीयों में ज्यादा नमक खाने की आदत है, जो डब्ल्यूएचओ द्वारा निर्धारित मात्रा से कहीं ज्यादा है.

अध्ययन में पाया गया कि दिल्ली और हरियाणा में नमक का सेवन प्रतिदिन 9.5 ग्राम और आंध्र प्रदेश में प्रतिदिन 10.4 ग्राम था.

व्रत में क्यों इस्तेमाल किया जाता है सेंधा नमक, जानें यहां
चिकित्सकों का कहना है कि आहार में नमक ज्यादा लेने से रक्तचाप यानी ब्लड प्रेशर पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है और समय के साथ यह कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का कारण बन सकता है. खाने में नमक को सीमित करने से हृदयरोग में 25 प्रतिशत तक की कमी आ सकती है और दिल की जटिलताओं से मरने का खतरा 20 प्रतिशत तक कम हो सकता है.

हल्थकेयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, भारतीय आहार सोडियम से भरपूर होता है और नमक की अधिक खपत गैर-संक्रमणीय बीमारियों के लिए सबसे बड़ा योगदान कारक है. समय के साथ अत्यधिक नमक गुर्दे को अपूर्णीय क्षति का कारण बन सकता है. ज्यादा नमक रक्तचाप बढ़ाता है, जिसे हाइपरटेंशन के रूप में जाना जाता है.

यह भी पढ़ें – बॉलीवुड: अजय देवगन के ट्विट पर भड़कीं काजोल, कहा- घर में No entry

खाने में लें बस इतना सा ही नमक, रहेंगे एकदम स्वस्थ
डॉ. अग्रवाल ने कहा कि उच्च रक्तचाप धमनियों को कठोर कर सकता है, जिससे रक्त और ऑक्सीजन के प्रवाह में कमी आती है. इससे चेहरे में ऑक्सीजन के प्रवाह में कमी आती है और स्किन सूखने के अलावा तेजी से झुर्रियां भी पड़ सकती हैं. इससे व्यक्ति की उम्र बढ़ी हुई दिखती है और स्वास्थ्य पर और भी कई नेगेटिव प्रभाव पड़ते हैं.

WHO की सिफारिश है कि एक वयस्क को एक दिन में 5 ग्राम से ज्याद नमक का सेवन नहीं करना चाहिए. दुनियाभर में शोधकर्ताओं और नीति निर्माताओं ने उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए नमक के सेवन को कम करने पर दबाव डाला है, क्योंकि इसके प्रमुख ट्रिगर्स- तनाव और दोषपूर्ण जीवनशैली को नियंत्रित करना मुश्किल है.

नमक के अलावा इन चीजों से भी मिलता है आयोडीन
डॉ. अग्रवाल की मानें तो नमक और सोडियम शब्द अक्सर एक-दूसरे के लिए उपयोग किए जाते हैं. हालांकि इनका मतलब अलग-अलग है. नमक में सोडियम और क्लोराइड शामिल है. नमक में मौजूद सोडियम दिल के लिए बुरा हो सकता है, जबकि जीवन के लिए नमक जरूरी है.