Potato

आलू सबसे आम और एक महत्वपूर्ण सब्जी में से एक हैं। आलू को सब्जियों का राजा भी कहा जाता है। आलू की खासियत यह है कि यह अन्य सब्जियों के मुकाबले पैसों में सस्ता होता है और कई स्वास्थ्य लाभों से लैस भी होता है। सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर में सबसे ज्यादा आलू का सेवन किया जाता है। आलू के सेवन से पाचन में सुधार, हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देना, कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करना, रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करना, पॉलीप्स से बचाव करना और कैंसर को रोकने में मदद मिलती है।

इसके अलावा वे रक्तचाप को कम करता हैं, अनिद्रा को कम करते हैं, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं, उम्र बढ़ने के संकेतों को कम करते हैं, तरल संतुलन बनाए रखते हैं, त्वचा की रक्षा करते हैं, और आंखों की देखभाल में सहायता करते हैं। आलू में सभी महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं। आज हम आपको बता रहे हैं कि आपको अपनी डाइट में आलू को क्यों शामिल करना चाहिए। डॉक्टर भी कहते हैं कि हर व्यक्ति को रोजाना कम से कम 1 आलू का सेवन जरूर करना चाहिए।

यह भी पढ़ें – स्वस्थ और लंबा जीवन जीने का राज, अपनाएं ये आसान उपाय

1. रक्तचाप
स्वस्थ रक्तचाप को बनाए रखने के लिए कम सोडियम आहार आवश्यक है, लेकिन पोटेशियम की उच्च मात्रा भी समान रूप से महत्वपूर्ण होती है। पोटेशियम वासोडिलेशन, या रक्त वाहिकाओं की चौड़ाई को प्रोत्साहित करता है। पोषक तत्व जैसे पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम सभी आलू में मौजूद होते हैं। यह स्वाभाविक रूप से रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

2. कैंसर से बचाता है
आलू में फोलेट होता है। डीएनए के संश्लेषण और मरम्मत में फोलेट एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह कई प्रकार के कैंसर कोशिकाओं को डीएनए में उत्परिवर्तन के कारण बनाने से रोकता है। फल और सब्जियों के साथ ही आलू भी हाई फाइबर स्त्रोत है जो कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम को कम करता है। आलू में मौजूद विटामिन सी और क्वार्सेटिन एंटीऑक्सीडेंट हमारे शरीर को कैंसर के विनाशकारी प्रभाव से बचाते हैं।

3. हृदय स्वास्थ्य
आलू में मौजूद फाइबर, पोटेशियम, विटामिन सी, और विटामिन बी 6 कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। आलू में फाइबर की महत्वपूर्ण मात्रा रक्त में कोलेस्ट्रॉल की कुल मात्रा को कम करने में मदद करती है, जिससे दिल की बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। एनएचएएनईएस के आधार पर कहा गया है कि आलू में मौजूद पोटेशियम की उच्च मात्रा और सोडियम की कम मात्रा से कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का खतरा लगभग न के बराबर होता है।

4: मस्तिष्क के लिए फायदेमंद
मस्तिष्क की उचित कार्यप्रणाली बड़े पैमाने पर ग्लूकोज स्तर, विटामिन-बी परिसर के विभिन्न घटकों, ऑक्सीजन आपूर्ति, ओमेगा-3 जैसे फैटी एसिड, कुछ हार्मोन और एमिनो एसिड पर निर्भर करती है। आलू में यह सभी तत्व मौजूद होते हैं। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि आलू मस्तिष्क के लिए भी बहुत लाभकारी है। आलू मस्तिष्क को थकने से रोकता है और आपको हर समय सतर्क रखता है।