bhamashah swasthya bima yojana
NewsRaftaar

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना

वो सभी बातें जो हर आम आदमी योजना के सम्बन्ध में जानना चाहता है

1.भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना क्या है?
भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के अन्तर्गत NFSA तथा RSBY अन्तर्गत आने वाले परिवार के सदस्यों को प्रति परिवार प्रति वर्ष सामान्य बीमारियों हेतु रू. तीस हजार  तथा गंभीर बीमारियों हेतु रू. तीन लाख तक का निःशुल्क इलाज सरकारी (सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा उनसे उच्च संस्थान) तथा सूचीबद् निजी चिकित्सालयों में अन्तरंग स्वास्थ्य सुविधाओं (IPD) के लिए दिया जाता है।

2.यह योजना कब एवं क्यो प्रारम्भ की गई ?
माननीय मुख्यमंत्री महोदया द्वारा बजट भाषण 2014-15 में स्वास्थ्य बीमा योजना की घोषणा की गई थी, जिसकी अनुपालना में दिनांक 13 दिसम्बर, 2015 से भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना प्रदेश में प्रारम्भ की गई।

3.राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) के पात्र परिवारों का क्या अर्थ है?
सामान्य भाषा में वे परिवार जिनको राशन की दुकान से माह अक्टूबर 2015 के पष्चात गेहूँ प्राप्त हो रहा है वे परिवार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अन्तर्गत आते है।

4.मैं राजस्थान राज्य के बाहर का निवासी हूं क्या मुझे इस योजना का लाभ मिल सकता है?
नहीं, उक्त योजना केवल राजस्थान राज्य के निवासियों हेतु बनायी गयी है।

5.क्या इलाज के दौरान मुझसे किसी भी तरह की राशि वसूल की जायेंगी?
नहीं, इस योजना के अन्तर्गत सम्पूर्ण सुविधाएँ पूर्णतः निःशुल्क (कै शलेस) है।

6.मैं राजस्थान का मूल निवासी हूं परन्तु राज्य के बाहर नौकरी करता हूं, क्या मुझे इस योजना का लाभ मिल सकता है?
जी हां, उक्त योजना राजस्थान राज्य के निवासियों हेतु बनायी गयी है अतः आप इसका लाभ ले सकते है।

7.मैं एक आम नागरिक हूँ। क्या मैं बीमा कम्पनी का प्रीमियम देकर योजना का लाभ ले सकता हूँ?
जी नहीं। योजना में ऐसा कोई प्रावधान नही है।

8.योजना के अन्तर्गत कितनी राशि की चिकित्सा सेवा कवर की गयी है?
सामान्य बिमारियों हेतु रू. तीस हजार  तथा गंभीर बिमारियों हेतु रू. तीन लाख तक का बीमा कवर प्रति परिवार प्रति वर्ष किया गया है।

9.योजना के अंतर्गत लाभार्थी के इलाज में क्या-क्या सम्मिलित है ?
योजना के अन्तर्गत लाभार्थी को सामान्य वार्ड में योजनान्तर्गत आने वाले डिजीज पैकेज से सम्बन्धित निम्नाकिंत चिकित्सा सुविधाएँ शामिल है-

  • बिस्तर व्यय सामान्य वार्ड/आई.सी.यू. में
  • भर्ती व्यय तथा नर्सिग व्यय।
  • शल्य चिकित्सा में शामिल व्यय।
  •  वेन्टीलेटर शुल्क, शल्य उपकरणों, दवाओं, आक्सीजन, प्रत्यारोपण उपकरण, एक्स-रे तथा अन्य जाँचों पर व्यय आदि।
  • अन्य सभी व्यय जो रोगी के इलाज के दौरान अस्पताल के द्वारा वहन किया गया है।

10.योजना के अन्तर्गत कुल कितनी बीमारियां शामिल की गयी है?
योजना के अन्तर्गत 14 चिकित्सा विशेषज्ञता से सम्बन्धित कुल 1715 डिजीज पैकेज निर्धारित किये गये है।

और पढ़ें…