Newsraftaar

यूपी विधानसभा चुनाव के बाद अब निकाय चुनाव में भी बीजेपी ने जबरदस्त प्रदर्शन किया है. नगर निगमों की संख्या बढ़ने के बावजूद बीजेपी पिछली बार की तरह दो सीटों पर हारी और 16 में 14 पर उसने कब्जा कर लिया है. वहीं नगर पालिका और नगर पंचायत अध्यक्ष पद पर बीजेपी को भारी बढ़त मिली है.

दूसरी तरफ पहली बार पार्टी सिंबल पर चुनाव में उतरने वाली बीएसपी ने कड़ी टक्कर दी है. पार्टी ने दो नगर निगमों में जीत का परचम लहराया है. बीएसपी ने अलीगढ़ और मेरठ में जीत दर्ज की.

इस बार यूपी में 4 नए नगर निगम शामिल किए गए हैं. पिछली बार 12 निगमों में से 10 पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी. लेकिन इस बार सहारनपुर, मथुरा, फिरोजाबाद और अयोध्या को भी नगर निगम में शामिल किया गया और 16 में 14 सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज की.

नगर निगम महापौर के रिजल्ट
1. लखनऊ- संयुक्ता भाटिया (BJP)

2. गोरखपुर- सीताराम जायसवाल (BJP)

3. गाजियाबाद- आशा शर्मा (BJP)

4. वाराणसी- मृदुला जायसवाल (BJP)

5. सहारनपुर- संजीव वालिया (BJP)

6. फिरोजाबाद- नूतन राठौर (BJP)

7. आगरा- नवीन जैन (BJP)

8. झांसी- रामतीर्थ सिघंल (BJP)

9. इलाहाबाद- अभिलाषा गुप्ता (BJP)

10. मेरठ- सुनीता वर्मा (BSP)

11. अयोध्या- ऋषिकेश उपाध्याय (BJP)

12. मथुरा- मुकेश आर्य (BJP)

13. अलीगढ़- मोहम्मद फुरकान (BSP)

14. बरेली- उमेश गौतम (BJP)

15. कानपुर- प्रमिला पांडे (BJP)

16. मुरादाबाद- विनोद अग्रवाल (BJP)

नगर निगम पार्षद (कुल सीट-1300)
बीजेपी- 592

बीएसपी- 147

कांग्रेस- 110

सपा- 45

अन्य- 19

निर्दलीय-222

नगर पालिका परिषद अध्यक्ष (कुल सीट-198)
बीजेपी- 67

बीएसपी- 27

कांग्रेस- 9

सपा- 45

निर्दलीय- 42

नगर पंचायत अध्यक्ष (कुल सीट-438)
बीजेपी- 100

बीएसपी-45

सपा-83

कांग्रेस-17

अन्य-10

निर्दलीय-181

अब इन नतीजों की तुलना 2012 से करने पर पता चलता है कि बीजेपी को काफी बढ़त मिली है. पिछली बार कुल 12 नगर निगमों में महापौर पद के लिए चुनाव हुए थे, जिनमें से 10 पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी. जबकि दो महापौर निर्दलीय जीते थे. वहीं 12 नगर निगमों में पार्षद के 980 पदों के लिए हुए चुनाव में बीजेपी ने 304 सीटें जीती थीं.

नगर पालिका में बीजेपी
नगर पालिका अध्यक्ष पद की बात की जाए तो 2012 में इस पर भी बीजेपी सबसे बड़े राजनीतिक दल के रूप में उभरी थी. कुल 194 अध्यक्ष पदों में से 42 पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी. जबकि 130 सीटों पर निर्दलीय या दूसरे राजनीतिक दलों द्वारा समर्थित उम्मीदवार अध्यक्ष बने थे. वहीं इस बार बीजेपी ने कुल 198 सीटों में 67 पर परचम लहराया है.

नगर पंचायतों की बात की जाए तो 2012 में बीजेपी ने कुल 423 सीटों में से 36 पर जीत दर्ज की थी. इस बार कुल 438 सीटों में जीत का ये आंकड़ा 100 पहुंच गया है.