दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को एनडीटीवी के एक कार्यक्रम में दिल्ली में जहरीली हवाओं के धुंध को लेकर कहा कि केजरीवाल को गाली देने से अगर पॉल्यूशन कम हो तो दिल्ली के सभी 2 करोड़ लोगों से कहूंगा कि सुबह उठकर मुझे गाली दें. उन्होंने आगे कहा कि अगस्त, सितंबर और अक्टूबर महीने में पॉल्यूशन लेवल को भी इनकार नहीं किया जा सकता लेकिन दिल्ली अपना पॉल्यूशन क्रिएट करता है, क्योंकि जहरीली हवाओं के धुंध के अलावा ट्रांसपोर्ट, डस्ट, इंडस्ट्रियल का भी प्रदूषण है.

सीएम केजरीवाल ने यह भी कहा कि 28 अक्टूबर से लेकर 12 नवंबर के बीच पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने के कारण दिल्ली में जहरीली हवाओं का धुंध आ जाता है. दिल्ली का प्रदूषण बढ़ने की मुख्य वजह पंजाब-हरियाणा के किसानों द्वारा जलाए जा रहे पराली से ही है. इसका समाधान उन दोनों राज्यों से ही निकलेगा न कि दिल्ली से. केजरीवाल ने कहा कि एक साल के अंदर दिल्ली में करीब 2000 नई बसें आएंगी.

इसे भी पढ़ें: सर्दियों में घूमने जाएं जैसलमेर, मजा लीजिये दुबई जैसा

एनडीटीवी के इस कार्यक्रम में केजरीवाल ने कहा कि हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर से मिलने के दौरान उन्होंने 12 किस्म की मशीनें दिखाई, जिससे इस समस्या का निजात पाया जा सकता है. यह मशीन लगभग ढेड़ लाख रुपए की है और इसमें 40 प्रतिशत की सब्सिडी है. यदि यह सब्सिडी 40 से बढ़ाकर 80 प्रतिशत कर दी जाए और इसे किसानों में बांट दिया जाए तो इस समस्या का हल आसानी से पाया जा सकता है.

केजरीवाल ने आगे बताया कि खट्टर साहब ने केंद्र सरकार से 1600 करोड़ और पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 3 से 4 हजार करोड़ रुपए मांगे हैं. जब तक सरकार किसान टेक्नॉलॉजिकल समाधान नहीं देंगे तो उसका समाधान नहीं निकलेगा. बता दें कि पिछले दिनों जब दिल्ली का प्रदूषण स्तर खतरनाक था तो दिल्ली सरकार ने ऑड-ईवन फॉर्मूला लागू करने वाली थी, लेकिन एनजीटी ने महिलाओं और दो पहिया वाहनों को छूट देने से इनकार कर दिया था और यह योजना लागू नहीं हो सकी.

सीएम अरविंद केजरीवाल ने 2019 में विपक्ष की दावेदारी को मजबूत बताया. उन्होंने कहा कि 2019 का चुनाव जनता और मोदी के बीच होगा. केजरीवाल ने दावा किया कि उनकी पार्टी और ममता बनर्जी की तृणमूल जैसी पार्टियों में मोदी सरकार को 2019 में चुनौती देने का दम है. केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए केजरीवाल ने कहा कि जीएसटी और नोटबंदी ने आम लोगों के साथ साथ छोटे व्यापारियों का जीवन बर्बाद कर दिया है.