कांग्रेस ने बुधवार को आरोप लगाया कि गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी एवं केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल पार्टी के नवनिर्वाचित अध्यक्ष राहुल गांधी का साक्षात्कार प्रसारित करने के कारण चुनाव आचार संहिता के नाम पर पत्रकारों को धमका रहे हैं। पार्टी ने इन लोगों के खिलाफ चुनाव आयोग से मामला दर्ज करने का अनुरोध किया है।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी आरोप लगाया कि गुजरात के कुछ भाजपा नेता चुनाव आयोग के नाम पर टीवी चैनलों के खिलाफ मामला चलाने के लिए धमका रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम भाजपा और उसके नेताओं के दंभपूर्ण व्यवहार, उनके असंवैधानिक रवैये की कड़ी भत्सना करते है। हम भाजपा को आगाह करते हुए हैं कि वे मीडिया पर इस तरह का प्रतिबंध नहीं थोप सकते हैं क्योंकि देश में अभी तक लोकतंत्र का शासन है। ’’

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री, उनके मंत्री, भाजपा अध्यक्ष आजकल ‘‘अपना सारा आवेश और गुस्सा, अपनी सारी उत्तेजना भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और उसके नेतृत्व पर उडेल रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम चुनाव आयोग से अनुरोध करते हैं कि वह इस तरह की धमकियों का संज्ञान ले और भाजपा नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करें।’’ उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा नेता अब मुख्य निर्वाचन अधिकारियों की तरह बर्ताव कर रहे हैं तथा चुनाव आयोग निर्वाचन संस्था की छवि खराब करने की साजिश करने के मामले में भी उनके खिलाफ मामला दर्ज करे। यह पूछे जाने पर कौन पत्रकारों को धमकी दे रहा है, ‘‘हमे आधिकारिक रूप से यह कहना है कि गुजरात के मुख्यमंत्री ओर गुजरात के भाजपा प्रमुख टीवी चैनलों को फोन कर रहे हैं और उन्हें धमका रहे हैं। केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने भी कहा है कि गांधी का साक्षात्कार प्रसारित करने वालों के खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा।’’

सुरजेवाला ने कहा कि यह तय करना चुनाव आयोग का काम है कि आचार संहिता का उल्लंघन हुआ या नहीं तथा भाजपा नेता इसे लेकर किसी को धमका नहीं सकते। गुजरात में कल दूसरे चरण का मतदान होगा। पहले चरण का मतदान नौ दिसंबर को हुआ था तथा राज्य विधानसभा चुनाव के नतीजे 18 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे।