पश्चिम बंगाल: किसानो के बैंक खातों में रहस्यमय तरीके से आ रहे पैसे, मचा हड़कंप | News Raftaar

यदि आपके बैंक खातों में अचानक से पैसा आने लगे तो आप कैसा महसूस करेंगे? निश्च‍ित है खुश होंगे. ऐसा ही माहौल पश्च‍िम बंगाल के पूर्ब बर्धमान जिले में हो रहा है जहां 150 से ज्यादा लोगों के बैंक खातों में 2 हजार से 24 हजार रुपये तक जमा हो गए है. इससे एक तरफ तो ग्राहक खुश हो रहे हैं तो वहीं, बैंक प्रबंधन के माथों पर पसीना आ गया है कि रहस्यमय तरीके से ये पैसे कहां से आ रहे हैं.

पश्चिम बंगाल के पूर्ब बर्धमान जिला स्थित कटवा अनुमंडल में करीब डेढ़ सौ से ज्यादा गरीब लोगों के खातों में ऐसा देखने को मिल रहा है. एक के बाद एक इलाके के डेढ़ सौ से ज्यादा बैंक ग्राहकों के खाते में 2 हजार से 24 हजार तक की धनराशि जमा हो गई है.

बैंक अधिकारियों की मानें तो यह सभी एक्सिस बैंक से एनईएफटी के माध्यम से इन बैंकों में जमा हुए हैं.स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के कटवा शाखा प्रबंधक धर्मदास मंडल ने बताया कि जो भी पैसे जमा हुए हैं वे सभी 1 जनवरी 2019 को जमा हुए हैं. किसी के खाते में 2 हजार तो किसी के खाते में 24 हजार रुपये जमा हुए हैं.

यह भी पढ़ें – बसपा मुखिया मायावती का आज जन्मदिन, 63 किलो का काटेंगी केक

अभी तक इस बात का खुलासा नहीं हो पाया है कि यह पैसे क्यों और कैसे इन लोगों के खातों में जमा हो रहे हैं.
बीते 2 दिनों में बैंक खातों में पैसों की हो रही आमद की यह खबर जंगल आग की तरह फैल रही है.आलम यह है कि कटवा में आसपास के इलाकों के हजारों बैंक खाताधारक पासबुक के साथ इस उम्मीद में बैंकों के सामने लंबी कतारों में शामिल हो रहे हैं कि उनके खाते में भी पैसे जमा हुए होंगे. यही नहींए, अपने-अपने खातों में जमा हुए पैसों की निकासी करने के लिए भी लोगों की यह भारी भीड़ जमा हो रही है.

कटवा अनुमंडल के एक वरिष्ठ अधिकारी सौमेन पाल ने कहा कि उन्हें भी इस मामले की जानकारी मिली है. जब तक पूरे मामले की जांच नहीं हो जाती तब तक इस मामले में कुछ भी कह पाना संभव नहीं है. वहीं, स्थानीय विधायक शाहनवाज हुसैन ने कहा कि यह पैसे किसी स्कीम के तहत बैंकों में आ रहे हैं अथवा कोई और बात है इसे लेकर पड़ताल की जा रही है. साथ ही उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने 15 लाख रुपये बैंकों में जमा करवाने की बात कही थी. अब हो सकता है कि चुनाव आने वाला है और ऐसे में बैंकों में गुपचुप तरीके से पैसे भेजे जा रहे हों.