कारोबार के अंतिम दिन शेयर बाजार में भारी गिरावट, निवेश्कों के 2.26 लाख करोड़ डूबे | News Raftaar

नई दिल्ली : कारोबारी सत्र के अंतिम दिन शेयर बाजार में भारी गिरावट आई. शुक्रवार को सेंसेक्स और निफ्टी दोनों में ही 1.8 प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई, जिससे निवेश्कों को 2.26 लाख करोड़ से भी ज्यादा का नुकसान हुआ. क्रिसमस से पहले आई इस गिरावट के बाद बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैपिटल 145.56 लाख करोड़ रुपये से घटकर 143.30 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया. बाजार में गिरावट रीयल्टी, बैंकिंग, आईटी और वाहन क्षेत्र की बड़ी कंपनियों के शेयरों में मुनाफावसूली और वैश्विक बाजारों के कमजोर रुख से भारी गिरावट दर्ज हुई.

साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 527.93 अंक नीचे
ब्रोकरों के अनुसार अमेरिका और चीन के बीच बढ़ते तनाव और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा मेक्सिको पर सुरक्षा दीवार के लिए कोष मांगे जाने पर तकरार के कारण अमेरिका में संघीय सरकार का कामकाज बंद होने के डर से वाल स्ट्रीट समेत एशियाई और घरेलू बाजार में गिरावट आई है. कारोबार के अंत में बंबई शेयर का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 689.60 अंक यानी 1.89 प्रतिशत टूटकर 35,742.07 अंक पर आ गया. वहीं निफ्टी 197.70 अंक या 1.81 प्रतिशत के नुकसान से 10,754 अंक पर बंद हुआ. साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स में 527.93 अंक और निफ्टी में 134 अंक की गिरावट आई.

बैंकिंग शेयरों में गिरावट
सेंसेक्स की कंपनियों में रिलायंस इंडस्ट्रीज, इन्फोसिस, टीसीएस, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक, आईटीसी, मारुति, एलएंडटी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एक्सिस बैंक, विप्रो और इंडसइंड बैंक चार प्रतिशत तक टूट गए. वहीं दूसरी ओर एनटीपीसी, पावरग्रिड और कोल इंडिया के शेयर एक प्रतिशत तक चढ़ गए. बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में भारी बिकवाली देखने को मिली. मिडकैप में 1.79 प्रतिशत तथा स्मॉलकैप में एक प्रतिशत की गिरावट आई.

शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने गुरुवार को 386.44 करोड़ रुपये के शेयर बेचे. वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 87.96 करोड़ रुपये की लिवाली की. इस बीच, अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया 52 पैसे के नुकसान के साथ 70.22 प्रति डॉलर पर चल रहा था. वायदा कारोबार में ब्रेंट क्रूड 0.96 प्रतिशत टूटकर 53.83 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया.