rahul-gandhi

नेपाल पहुंचते ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक बार फिर विवादों में फंस गए. एक बार फिर उनके खाने को लेकर विवाद शुरू हो गया.

नेपाल पहुंचकर राहुल गांधी ने काठमांडू के आनंद भवन स्थ‍ित वूटू फूड बुटिक में खाना खाया. राहुल गांधी के इसी खाने पर विवाद हो गया. नेपाली मीडिया में खबर छपी कि राहुल गांधी ने नॉनवेज यानी मांसाहारी खाना खाया.

नेपाली मीडिया के अनुसार राहुल ने इस रेस्ट्रां की फेमस नॉनवेज डिश नेवारी डिश खाई जिसके तहत उन्होंने चिकन मोमो, चिकन कुरकुरे और बंदेल की डिश ऑडर की थी. इसके बाद विवाद हो गया कि राहुल गांधी ने हिंदुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है.

सोशल मीडिया पर राहुल गांधी के खिलाफ मैसेज शेयर होने लगे. हालांकि विवाद के बाद वूटू Vootoo Food Voutique ने अपने फेसबुक पेज पर सफाई दी. रेस्ट्रां के अनुसार राहुल गांधी ने वेज खाना खाया. रेस्ट्रां की ओर से कहा गया कि मीडिया की तरफ से काफी पूछताछ की जा रही है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने वूटू में क्या खाया. उन्होंने मेन्यू देखकर शुद्ध शाकाहारी भोजन ऑर्डर किया था. वूटू ने उनके खाने के संबंध में किसी मीडिया संस्थान को कोई बयान जारी नहीं किया है.

यह भी पढ़ें – जोधपुर: तकनीकी खराबी के चलते उड़ान भरने के 15 मिनट बाद फाइटर विमान हुआ क्रैश

रेस्ट्रां ने राहुल गांधी की फोटो भी पोस्ट की थी.

राहुल गांधी ने रेस्ट्रां में फेमस वेज थाली संडेको वेज प्लेटर ऑर्डर की थी.

इसमें कई तरह की सब्ज‍ियां और साग परोसी जाती है.

रेस्ट्रां के अनुसार राहुल ने अचारी आलू और सादा वेज खाना खाया, जिसमें क्र‍िस्पी कॉर्न आदि शामिल था.

हालांकि विवाद यहीं नहीं थमा रेस्ट्रां के एक वेटर ने एक भारतीय मीडिया चैनल को बताया कि उन्होंने नेवारी डिश खाई जिसके तहत उन्होंने चिकन मोमो, चिकन कुरकुरे और बंदेल की डिश ऑडर की थी.

जहां बीजेपी और बाकी कई लोग राहुल गांधी पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगा रहे हैं तो कांग्रेस इसे अफवाह बताते हुए राहुल की कैलाश मानसरोवर यात्रा में विघ्न डालने वाला कार्य बता रही है. कांग्रेस के अनुसार जब होटल प्रबंधन ने कहा दिया कि राहुल गांधी ने शुद्ध शाकाहारी खाना खाया तो फिर बाकी का विवाद बेकार है. ये बीजेपी का अजेंडा है. बीजेपी राहुल गांधी की मानसरोवर यात्रा में विघ्न पैदा करना चाहती है. ये देव और दानवों की लड़ाई है.

राहुल गांधी की कैलाश मानसरोवर यात्रा 12 दिन की है. वह दिल्ली से उड़ान भरकर 31 अगस्त शुक्रवार को शाम 5.30 बजे काठमाण्डू आए थे और काठमाण्डू के होटेल र्याडिसेन में ठहरे थे. मानसरोवर यात्रा के दौरान राहुल गांधी काठमांडू होते हुए चीन की तरफ गए हैं.

कर्नाटक चुनावों के लिए प्रचार के दौरान जब राहुल गांधी हवाई यात्रा कर रहे थे तो उस समय उनका विमान आकाश में सहसा सैकड़ों फुट नीचे उतर आया था जिसके बाद अप्रैल में उन्होंने कैलाश मानसरोवर यात्रा करने की इच्छा जताई थी. गौरतलब है कि 26 अप्रैल को दिल्ली से कर्नाटक के हुबली हवाईअड्डे की ओर जा रहे विमान में तकनीकी खराबी आ गई थी और वह बायीं ओर झुक गया था. इस विमान में राहुल गांधी तथा कुछ अन्य लोग सवार थे. विमान अचानक तेजी से नीचे उतर गया था हालांकि बाद में वह संभल गया और उसने सुरक्षित लैंडिंग की.

तीन दिन बाद 29 अप्रैल को गांधी ने एक रैली के दौरान घोषणा की कि वह मानसरोवर तीर्थयात्रा करना चाहते हैं. कैलाश पर्वत की यह दुर्गम तीर्थयात्रा हर साल जून और सितंबर के बीच आयोजित की जाती है. इसे हिंदू पुराण में भगवान शिव का निवास माना जाता है और यह तिब्बत के हिमालय में स्थित है.

आपको बता दें कि यह पहली बार नहीं है कि राहुल गांधी के खाने को लेकर विवाद हुआ है. कर्नाटक चुनाव कैंपेन के दौरान भी मंदिर जाने से पहले राहुल गांधी के नॉनवेज खाने की अफवाह फैलाई गई थी. हालांकि इस बात की कोई पुष्ट‍ि नहीं हुई थी.