dust-storm

धूल के गुबार से परेशान दिल्ली-एनसीआर में हालात गंभीर बने हुए हैं. दिल्ली में कई जगह तो प्रदूषण का स्तर इतना बढ़ गया है कि यहां प्रदूषण नापने की मशीन भी फेल हो गई. दिल्ली में एयर इंडेक्स 431 दर्ज हुआ.

दिल्ली में अगले तीन दिन बेहद खतरनाक माने जा रहे हैं. क्योंकि अगले तीन दिन तक पीएम 10 का स्तर खतरनाक लेवल पर बना रहेगा.

वहीं, एनसीआर में सबसे ज्यादा प्रदूषित ग्रेटर नोएडा है. यहां एयर इंडेक्स 500 रहा. जबकि गुडगांव में 485, नोएडा में 390, गाजियाबाद में 384 और फरीदाबाद में 317 एयर इंडेक्स दर्ज हुआ.

फिलहाल 17 जून तक दिल्ली में सभी तरह की कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी पर रोक लगा दी गई है. नगर निगम और पीडब्ल्यूडी सड़कों की सफाई मैकेनिकल मशीनों से करेंगे. मुख्य सड़कों पर झाडू नहीं लगाई जाएगी.

सेंट्रल वर्ज और सड़क के किनारों पर पानी का छिड़काव किया जाएगा. नोएडा, गाजियाबाद में भी ऐसे ही उपायों का ऐलान किया गया है.

उधर, हरियाणा में भी 24 घंटों के लिए कंस्ट्रक्शन एक्टिविट रोक दी गई है. वहीं, चंडीगढ़ में पूअर विसिबिलिटी के कारण इंडिगो और जेट एयरवेज ने फ्लाइट कैंसिल कर दी है.

डॉक्टर्स का कहना है कि दिल्ली की हवा में धुल के कणों का स्तर इतना अधिक है कि अगर कोई सामान्य इंसान पांच घंटे भी हवा में सांस ले तो उसमें अस्थमा के लक्षण नजर आने लगेंगे.