प्रैक्टिस मैच के दौरान पृथ्वी शॉ की एड़ी मुड़ी, कौन करेगा ओपनिंग | News Raftaar

प्रैक्टिस मैच की पहली पारी में पृथ्वी शॉ ने 69 गेंदों में 66 रनों की जोरदार पारी खेली थी, लेकिन अगले दिन डीप मिडविकेट बाउंड्री पर कैच पकड़ने की कोशिश में वह चोटिल हो गए.

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में 6 दिसंबर से शुरू होने वाले पहले टेस्ट में पारी का आगाज करने की समस्या और गहरा गई है. एक तो खराब फॉर्म से जूझ रहे केएल राहुल को लेकर लगातार चर्चा हो रही है, तो दूसरी तरफ शानदार लय में दिख रहे 19 के साल सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ अभ्यास मैच के दौरान चोटिल होने के बाद पहले टेस्ट से बाहर हो गए हैं.

माना जा रहा है कि उनकी एड़ी मुड़ गई है. दर्द से कराह रहे पृथ्वी को अस्पताल ले जाया गया. स्कैन के बाद मेडिकल टीम ने उनकी चोट की गंभीरता पर रिपोर्ट सौंपी है.

बोर्ड ने कहा, ‘शुक्रवार सुबह शॉ की चोट की रिपोर्ट जारी हुई हैं और ऐसे में वह एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 6 दिसंबर से शुरू होने वाले पहले टेस्ट मैच में नहीं खेल पाएंगे. इस चोट से ठीक होने के लिए वह रिहेबिलिटेशन में जाएंगे.’

यह भी पढ़ें – प्रियंका-निक की शादी के लिए दुल्हन की तरह सजा उम्मेद भवन, देखें photos

पृथ्वी के बाहर होने से भारतीय टीम प्रबंधन का सिरदर्द बढ़ गया है. केएल राहुल से टीम के सहायक कोच संजय बांगड़ पहले ही खुश नहीं हैं. वह उनके (राहुल के) आउट होने के तरीकों पर नाराजगी जता चुके हैं.

अभ्यास मैच में राहुल महज तीन रन बनाकर आउट हुए थे. अब इस चार दिवसीय मैच की दूसरी पारी में उनकी बल्लेबाजी पर हर किसी नजर होगी.

कोच बांगड़ पहले ही सलामी जोड़ी तथा छठे नंबर के लिए अनिश्चय की स्थिति में दिखे थे उन्होंने एक दिन पहले ही कहा था कि सलामी जोड़ी तथा छठे नंबर लिए खिलाड़ी दावेदारी पेश कर सकते हैं.

बांगड़ के मुताबिक शुरुआती और छठे स्थान के लिए केएल राहुल, मुरली विजय, रोहित शर्मा और हनुमा विहारी दौड़ में होंगे.

जाहिर है, शॉ की गैरमौजूदगी में केएल राहुल और मुरली विजय पहले टेस्ट में भारत के लिए पारी की शुरुआत करेंगे. बीसीसीआई ने शॉ के विकल्प की घोषणा नहीं की है. टीम प्रबंधन ओपनर के तौर पर रोहित शर्मा को भी आजमा सकता है.

टीम इंडिया का नया सितारा पृथ्वी शॉ पहले टेस्ट में धमाका करने को तैयार था. अब उम्मीद की जा सकती है 14-18 दिसंबर के बीच पर्थ में खेले जाने वाले दूसरे टेस्ट में वह लौट आएंगे. शुरुआती दो टेस्ट मैचों में 237 रन बनाकर विश्व क्रिकेट में अपनी छाप छोड़ चुके पृथ्वी कंगारुओं के लिए बड़ी चुनौती साबित हो सकते हैं.