rajkot

गुजरात के राजकोट में एक दलित व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या किए जाने का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि दो युवकों की ग्रामीणों द्वारा जमकर पिटाई और निर्वस्त्र कर परेड कराए जाने का मामला सामने आया है. जानकारी के मुताबिक, दोनों युवकों को एक प्रतिमा के स्टैंड पर अपशब्द लिखने को लेकर मारा पिटा गया. बाद में ग्रामीणों ने दोनों युवकों को पुलिस के हवाले कर दिया.

पुलिस ने बताया कि राजकोट जिले के गोंडल में सरकारी अस्पताल के पास दोनों युवकों को मांधता नी प्रतिमा के स्टैंड पर अपशब्द लिखते हुए कुछ गांव वालों ने देख लिया. इसके बाद और भी ग्रामीण इकट्ठा हो गए. गांव वालों ने दोनों युवकों को बुरी तरह मारा-पीटा, प्रतिमा पर लिखे अपशब्द मिटवाए और उन्हें निर्वस्त्र कर पूरे गांव में परेड करवाई.

पुलिस ने दोनों युवकों की पहचान राजकोट के ही भगवतपारा के रहने वाले दिलीप गोवर्धनभाई बावलिया और रंजीत गिरधरभाई मकवाना के रूप में की है. दोनों की ही उम्र 25 वर्ष के करीब है. जानकारी के मुताबिक दोनों युवक प्रतिमा के स्टैंड पर अपशब्द लिखे स्टीकर चिपका रहे थे.

बता दें कि स्थानीय कोली समुदाय मांधता को ईश्वर की तरह पूजता है. जिस स्टैंड पर दोनों युवक अपशब्द लिखा स्टीकर चिपका रहे थे, वहां मांधता की प्रतिमा अभी लगाई जानी है. पुलिस ने बताया कि ग्रामीणों ने दोनों युवकों को पुलिस के हवाले तो कर दिया, लेकिन कोई शिकायत नहीं दर्ज करवाई.

पुलिस के मुताबिक, दोनों समुदायों बीच सुलह हो गई, जिसके चलते एफआईआर दर्ज नहीं की गई है. शिकायत दर्ज न होने के चलते दोनों युवकों की गिरफ्तारी भी नहीं हुई. फिलहाल दोनों युवकों का गोंडल सिटी हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है.