बच्चों के लिए फायदेमंद है नारियल तेल, ऐसे करें प्रयोग | News Raftaar

 

  • नारियल तेल में आयरन भरपूर होता है इसलिए ये बच्चों के लिए बेस्ट है।

  • बच्चों की त्वचा में नारियल तेल ऑक्सीजन का सर्कुलेशन बढ़ा देता है।

  • नारियल के तेल को सबसे बेहतर प्राकृतिक मॉइश्चराइजर माना जाता है।

छोटे बच्चों की मालिश के लिए कौन सा तेल फायदेमंद है, अक्सर इस बात को लेकर आप चिंतित रहती हैं? नारियल का तेल सेहत के साथ-साथ त्वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद माना जाता है। नारियल के तेल में अन्य तेलों के मुकाबले मिनरल्स बहुत कम होते हैं मगर आयरन की मात्रा ज्यादा होने के कारण ये त्वचा के लिए फायदेमंद माना जाता है। अगर छोटे बच्चों की मालिश नारियल तेल से की जाए, तो उन्हें कई फायदे मिलते हैं। आइए आपको बताते हैं नारियल तेल के फायदे और मालिश करने का सही तरीका।

बढ़ जाता है ऑक्सीजन का सर्कुलेशन
नारियल के तेल में बहुत ज्यादा मिनरल्स नहीं पाए जाते हैं। हालांकि इस तेल में आयरन भरपूर होता है इसलिए बच्चों की मालिश के लिए ये तेल अच्छा माना जाता है। आयरन शरीर में ऑक्सीजन का सर्कुलेशन बेहतर करता है। इसके अलावा नारियल तेल में विटामिन के, विटामिन ई और विटामिन सी भी पाए जाते हैं। बच्चों की नाजुक त्वचा और अंगों को विकास के लिए ऑक्सीजन की जरूरत ज्यादा होती है। विटामिन ई नए टिशूज के निर्माण के लिए एक जरूरी तत्व है। इसलिए सप्ताह में कम से कम 2 बार बच्चों की मालिश नारियल तेल से करनी चाहिए।

त्वचा रहती है मॉइश्चराइज
नारियल का तेल त्वचा को लंबे समय तक मॉइश्चराइज रखता है। वर्जिन नारियल के तेल को सबसे बेहतर प्राकृतिक मॉइश्चराइजर माना जाता है। इस तेल की मालिश से त्वचा में लंबे समय तक नमी बनी रहती है और ये रूखी त्वचा में भी नमी को लॉक कर देता है। बच्चों की त्वचा को नमी की ज्यादा जरूरत होती है इसलिए नारियल का तेल उनके लिए फायदेमंद होता है।

यह भी पढ़ें – मासिक धर्म के कारण होने वाले किसी भी प्रकार के दर्द के लिए 5 घरेलू इलाज

बेहतर आती है नींद
बेहतर नींद लाने के लिए भी नारियल का तेल किसी से कम नहीं है। रोज बच्चे की नारियल तेल से मालिश करें। इससे शारीरिक और मानसिक विकास तेज होता है। इससे बच्चे के शरीर में ताजगी और एनर्जी बनी रहती है। जिससे बच्चा अच्छी नींद लेता है।

बाहरी इंफेक्शन से बचाए नारियल का तेल
नारियल का तेल इम्यूनिटी बढ़ाने में भी बहुत लाभकारी है। नारियल के तेल में एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो त्वचा को बाहरी इंफेक्शन से बचाने में मदद करते हैं। अगर मां रोजाना नारियल के तेल में बना खाना खाती है तो बच्चा भी स्वस्थ रहता है। क्योंकि वह मां का दूध पीता है।

किस तरह करें नारियल के तेल से मसाज
नारियल का तेल कम तापमान में जम जाता है। इसलिए इसके इस्तेमाल से पहले इसे थोड़ा गर्म कर लेना चाहिए। गुनगुना तेल त्वचा में अच्छी तरह समा जाता है। हालांकि यह ध्यान रखें कि शिशु की त्वचा बहुत नाजुक और सेंसिटिव होती है इसलिए तेल ज्यादा गर्म न हो। इसके लिए तेल को पहले अपनी हथेली में लें और फिर मालिश करें, ताकि आपको तेल के तापमान का सही अंदाजा हो।